कश्मीर या लद्दाख के हिस्से में होगा कारगिल, जाने पूरी ख़बर!

कश्मीर से 370 के हटने के बाद इसका विभाजन भी हो गया है ,कश्मीर को 2 भागो में बाँट दिया गया है एक लद्दाख और एक जम्मू कश्मीर।जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन विधेयक 2019 के कानून बनने के बाद जम्मू-कश्मीर का मानचित्र पूरा बदल जाएगा. लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद सामरिक दृष्टि से अहम कारगिल जिला केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर का हिस्सा नहीं रह जाएगा.

अमित शाह

विधेयक 2019 के कानून बनने के बाद जम्मू-कश्मीर का मानचित्र पूरा बदल जाएगा. लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद सामरिक दृष्टि से अहम करगिल जिला केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर का हिस्सा नहीं रह जाएगा. जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन विधेयक के प्रावधानों के मुताबिक करगिल और लेह जिले को मिलाकर लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाया जाएगा. जम्मू-कश्मीर राज्य के बाकी बचे जिलों को मिलाकर जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित राज्य बनाया जाएगा.

इसका फायदा कश्मीरियों को बहोत ज्यादा मिलेगा क्युकी तेजी से विकास के लिए प्रतिबद्ध होना जरूरी होता है, करगिल जिला 1999 में भारत-पाकिस्तान के बीच हुई लड़ाई का पर्याय बन गया था. जहा पराक्रम से यहाँ तिरंगा लहराया गया।

जम्मू-कश्मीर में कई प्रशासनिक:

राज्यसभा के चार मौजूदा सांसद जो जम्मू-कश्मीर का प्रतिनिधित्व करते हैं वे अब केंद्र शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व करेंगे. उनके कार्यकाल में कोई बदलाव नहीं आएगा.

हिंदुस्तान

जम्मू-कश्मीर के लोकसभा के 6 मौजूदा सांसदों को कार्यकाल में कोई बदलाव नहीं आएगा. वे अपना कार्यकाल पूरा होने तक काम करते रहेंगे. नए जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश में 5 सांसद होंगे और लद्दाख के लिए एक सांसद होगा.

नई जम्मू-कश्मीर विधानसभा में अनुसूचित जाति और जनजाति को आबादी के अनुपात में आरक्षण दिया जाएगा.

इन सभी करने से काफी फायदा होगा देश के विकास और प्रगति में.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here